भारतीय सभ्यता

गाय  हमारी
*COW* बन गयी,

                    शर्म हया अब
                  *WOW* बन गयी,

  काढ़ा  हमारा
*CHAI* बन गया,

                     छोरा बेचारा
                   *GUY* बन गया,

    योग हमारा
*YOGA* बन गया,

                     घर का जोगी
                  *JOGA* बन गया,

भोजन 100 रु.
*PLATE* बन गया,

         ..हमारा भारत
       *GREAT* बन गया..

  घर की दीवारेँ
*WALL* बन गयी,

          दुकानेँ
*SHOPING MALL*बन गयीँ,

                               गली मोहल्ला
                               *WARD* बन गया,

    ऊपरवाला
*LORD* बन गया, 

                               माँ हमारी
                                *MOM* बन गयी,

छोरियाँ
*ITEM BOMB* बन गयीँ,


                                  तुलसी की जगह
                             *मनी प्लांट* ने ले ली..!

  चाची की जगह
  *आंटी* ने ले ली..!

                         पिता जी  *डैड* हो गये..!    
                                भाई तो अब *ब्रो* हो गये..!
      बेचारी बहन भी अब *सिस*  हो गयी..!

  दादी की लोरी तो अब
*टांय टांय फिस्स* हो गयी।

   जीती जागती माँ बच्चों के
      लिए *ममी* हो गयी..!

        रोटी अब अच्छी कैसे लगे
*मैग्गी जो इतनी यम्मी* हो गयी..!

गाय का आशियाना अब
      शहरों की *सड़कों* पर बचा है..!

             विदेशी कुत्तों ने लोगों के
   कंधों पर बैठकर *इतिहास* रचा है..!

    बहुत दुःखी हूँ ये सब देखकर
          दिल टूट रहा है..!

      *हमारे द्वारा ही हमारी*
      *भारतीय सभ्यता का*        *साथ छूट रहा है....*  

        ☝  🎯  👀
            एक मेसेज
    *भारतीय सभ्यता के नाम.......🙏🌹🙏🙏🌹🙏

Previous
Next Post »